AYURVEDAHEALINGTREE 59a55bdcaed58f054c4ddce7
{ "_id": "5a1f81703872830cbc07ed6f", "merchant_name": "Ayurveda Healing Tree", "bank_name": "Indian Bank", "bank_acc_num": "6456690183", "ifsc_code": "IDIB00Z003", "bank_account_type": "Current", "pan_card": "DAJPS1190H", "gstn": "", "merchant_id": "59a55bdcaed58f054c4ddce7", "fptag": "AYURVEDAHEALINGTREE", "phone_number": "7814002233", "delivery_type": 1, "payment_type": 1, "userid": "58ede4d4ee786c1604f6c535", "actionid": "591c0696ee786da6a48705a6", "websiteid": "59a55bdcaed58f054c4ddce7", "createdon": "2017-11-30T03:56:32.616Z", "updatedon": "2017-11-30T03:56:32.616Z", "isarchived": false } 1 1
False 96 4
OK
background image not found
Found Update results for
'best ayurvedic consultation'
5
Shirodhara is seen as one of the best stress buster. Ayurvedic Text beautifully mention it as follows Shirodhara is a type of ‘murdha taila’ procedure which means application of oil on the head or ‘murdha’. Application of oil can be done in various ways: Shiro Abhyanga – Massaging the head with herbal oils for a fixed duration of time, usually 30-40 minutes. Shiro Seka / Shiro dhara – A procedure in which the herbal oils or medicated liquids (milk, buttermilk, et cetera) are poured in a stream over the receiver’s head for a fixed duration of time, usually 35-45 minutes or 60 minutes. Shiro Pichu – The application of a cotton pad dipped in oil over the head. Shiro Basti (Vasti) – Procedure in which a dam is constructed over the head (in sitting position) using a leather cap or any other suitable material. The cap is sealed to the head with wet flour of black gram and filled with herbal oils and held there for a stipulated time. For best Ayurvedic Consultation call 7696287379 For more info visit us at http://ayurvedahealingtree.in/bizFloat/5a1b7bae3486b905187ea0b1/Shirodhara-is-seen-as-one-of-the-best-stress-buster-Ayurvedic-Text-beautifully-mention-it-as-follows-Shirodhara-is-a-type-of-murdha-taila-procedure-which-means-application-of-oil-on-the-head-or-murdha-Appli
शिरोधारा (शिरो-सिर, धारा-प्रवाह) को आयुर्वेद की सभी चिकित्साओं में सबसे उपयोगी माना गया है। यह एक प्राचीन आरोग्य विधि है जिसे भारत में लगभग 5, 000 वर्षों से प्रयोग में लाया जा रहा है। विश्रांति की अदभुत प्रक्रिया में व्यक्ति के सिर की त्वचा तथा मस्तक पर गुनगुने औषधीय तेल की एक पतली सी धार प्रवाहित की जाती है। शिरोधारा से अत्यंत शांति मिलती है, साथ ही यह आपको यौवन प्रदान करती है और आपके केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (नर्वस सिस्टम )की कार्यप्रणाली को सुधारती है। इसका प्रयोग बहुत सी परिस्थितियों में किया जा सकता है जैसे कि आँखों के रोग, सायनासाइटिस और स्मृति लोप। यह एक अत्यंत दैवीय चिकित्सा विधि है जो कि आपके शरीर के अंतर्ज्ञान जागृत करने में मदद करती है। आयुर्वेद के अनुसार, वात एवं पित्त के असंतुलन से पीड़ित व्यक्तियों के लिए शिरोधारा अत्यधिक लाभदायक है। जब वात असंतुलित होता है तो व्यक्ति में भय, असुरक्षा की भावना, चिंता या पलायनवादी विचार जैसे लक्षण दिखाई देते हैं और जब पित्त असंतुलित होता है तो व्यक्ति में क्रोध, चिड़चिड़ाहट, कुण्ठा और गलत निर्णय लेना आदि लक्षण दिखाई देने लगते हैं। शिरोधारा में प्रयोग किए जाने वाले तरल पदार्थ की विधि तथा गुण मनुष्य के शरीर के दोषों को संतुलित करते हैं। शिरोधारा का द्रव व्यक्ति के मस्तिष्क, सिर की त्वचा तथा तंत्रिका तंत्र को आराम तथा पोषण प्रदान करता है तथा दोषों को संतुलित करता है। शिरोधारा के लाभ तंत्रिका तंत्र को स्थायित्व देता है। अनिद्रा दूर करता है। माइग्रेन के कारण होने वाले सिरदर्द में आराम पहुँचाता है। मानसिक एकाग्रचित्तता बढ़ाता है। उच्च रक्त चाप कम करता है। बालों का झड़ना तथा थकान कम करता है। तनाव कम करता है। To Destress yourself Contact Ayurveda Healing Tree to get the Best Ayurvedic Consultation and to get the best Shirodhara Procedure. Contact 7696287379 For more info visit us at http://ayurvedahealingtree.in/bizFloat/5a1aed17f9f12705445f1af4/-5-000-To-Destress-yourself-Contact-Ayurveda-Healing-Tree-to-get-the-Best-Ayurvedic-Consultation-and-to-get-the-best-Shirodhara-Procedure-Contact-7696287379
Sinusitis Known as Pinas in Ayurveda, sinusitis is a condition in which the sinuses are blocked with mucus and become inflamed. Symptoms • Sneezing • Heaviness in the head • Feeling of heaviness • Blocked or runny nose Ayurvedic Sinusitis Treatment Ayurvedic treatment of sinusitis involves liquefying and expelling aggravated body energies with the use of certain Ayurvedic herbs and diet as well as nasal therapies and applications. The Panchakarma treatment of Nasya is quite effective in dealing with sinusitis. #Best Ayurvedic Consultation #Ayurvedic Doctor #Sinusitis Treatment #Panchkarma Call 7696287379
Shirodhara is seen as one of the best stress buster. Ayurvedic Text beautifully mention it as follows Shirodhara is a type of ‘murdha taila’ procedure which means application of oil on the head or ‘murdha’. Application of oil can be done in various ways: Shiro Abhyanga – Massaging the head with herbal oils for a fixed duration of time, usually 30-40 minutes. Shiro Seka / Shiro dhara – A procedure in which the herbal oils or medicated liquids (milk, buttermilk, et cetera) are poured in a stream over the receiver’s head for a fixed duration of time, usually 35-45 minutes or 60 minutes. Shiro Pichu – The application of a cotton pad dipped in oil over the head. Shiro Basti (Vasti) – Procedure in which a dam is constructed over the head (in sitting position) using a leather cap or any other suitable material. The cap is sealed to the head with wet flour of black gram and filled with herbal oils and held there for a stipulated time. For best Ayurvedic Consultation call 7696287379
शिरोधारा (शिरो-सिर, धारा-प्रवाह) को आयुर्वेद की सभी चिकित्साओं में सबसे उपयोगी माना गया है। यह एक प्राचीन आरोग्य विधि है जिसे भारत में लगभग 5, 000 वर्षों से प्रयोग में लाया जा रहा है। विश्रांति की अदभुत प्रक्रिया में व्यक्ति के सिर की त्वचा तथा मस्तक पर गुनगुने औषधीय तेल की एक पतली सी धार प्रवाहित की जाती है। शिरोधारा से अत्यंत शांति मिलती है, साथ ही यह आपको यौवन प्रदान करती है और आपके केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (नर्वस सिस्टम )की कार्यप्रणाली को सुधारती है। इसका प्रयोग बहुत सी परिस्थितियों में किया जा सकता है जैसे कि आँखों के रोग, सायनासाइटिस और स्मृति लोप। यह एक अत्यंत दैवीय चिकित्सा विधि है जो कि आपके शरीर के अंतर्ज्ञान जागृत करने में मदद करती है। आयुर्वेद के अनुसार, वात एवं पित्त के असंतुलन से पीड़ित व्यक्तियों के लिए शिरोधारा अत्यधिक लाभदायक है। जब वात असंतुलित होता है तो व्यक्ति में भय, असुरक्षा की भावना, चिंता या पलायनवादी विचार जैसे लक्षण दिखाई देते हैं और जब पित्त असंतुलित होता है तो व्यक्ति में क्रोध, चिड़चिड़ाहट, कुण्ठा और गलत निर्णय लेना आदि लक्षण दिखाई देने लगते हैं। शिरोधारा में प्रयोग किए जाने वाले तरल पदार्थ की विधि तथा गुण मनुष्य के शरीर के दोषों को संतुलित करते हैं। शिरोधारा का द्रव व्यक्ति के मस्तिष्क, सिर की त्वचा तथा तंत्रिका तंत्र को आराम तथा पोषण प्रदान करता है तथा दोषों को संतुलित करता है। शिरोधारा के लाभ तंत्रिका तंत्र को स्थायित्व देता है। अनिद्रा दूर करता है। माइग्रेन के कारण होने वाले सिरदर्द में आराम पहुँचाता है। मानसिक एकाग्रचित्तता बढ़ाता है। उच्च रक्त चाप कम करता है। बालों का झड़ना तथा थकान कम करता है। तनाव कम करता है। To Destress yourself Contact Ayurveda Healing Tree to get the Best Ayurvedic Consultation and to get the best Shirodhara Procedure. Contact 7696287379
1
false